Home » Entertainment » diljit dosanjh and taapsee pannu film soorma collected more than 3 crore on 1st day at box office

diljit dosanjh and taapsee pannu film soorma collected more than 3 crore on 1st day at box office


Publish Date:Sat, 14 Jul 2018 12:10 PM (IST)

मुंबई। भारतीय हॉकी के बेहतरीन ड्रैग फ्लिकर संदीप सिंह की ज़िंदगी पर बनी फिल्म सूरमा ने बॉक्स ऑफिस पर तीन करोड़ से अधिक की ओपनिंग ली है।

पंजाबी फिल्मों से हिंदी में आए सिंगर-एक्टर दिलजीत दोसांझ और तापसी पन्नू स्टारर सूरमा ने घरेलू बॉक्स ऑफिस पर पहले दिन 3 करोड़ 25 लाख रूपये का कलेक्शन किया है। फिल्म से इसी के आसपास के ओपनिंग की उम्मीद की गई थी। सूरमा को उत्तर भारत में अच्छा कलेक्शन मिला है लेकिन देश के बाकी हिस्सों में शुरुआत धीमी हुई है। हालांकि सूरमा को माउथ पब्लिसिटी के दम पर शनिवार और रविवार को अच्छा कलेक्शन मिलने की उम्मीद है। बंटी और बबली जैसी फिल्म बना चुके शाद अली के निर्देशन में बनी सूरमा, भारतीय हॉकी के बेहतरीन ड्रैग फ्लिकर संदीप सिंह के संघर्ष की कहानी है। हॉकी के साथ ज़िंदगी के कई उतार चढ़ाव देखने वाले संदीप सिंह को एक बार गोली लग जाती है, जिसके कारण उनके कमर के नीचे के हिस्से को लकवा मार जाता है। संदीप हिम्मत नहीं हारते और दो साल बाद फिर से हॉकी के मैदान पर उतर कर अपनी स्टिक का जादू दिखाते हैं।

सूरमा में तापसी पन्नू, अंगद बेदी, सिद्धार्थ शुक्ला और विजय राज ने अहम् भूमिकाएं निभाई हैं। करीब दो घंटे 11 मिनट की इस फिल्म को बनाने में 30 करोड़ के आसपास की लागत आई है। सूरमा को भारत में 1100 और ओवेरसीज़ में 335 स्क्रीन्स में रिलीज़ किया गया है l सूरमा को आगे एंट मैन से भी तगड़ा कॉम्पिटिशन मिलेगा क्योंकि हाल के दिनों में भारत में हॉलीवुड फिल्म ने अच्छी कमाई की है। एवेंजर्स इसका सबसे बड़ा उदहारण रहेगा। लेकिन सबसे बड़ा ख़तरा रणबीर कपूर की संजू है जो लगभग छह करोड़ रूपये प्रतिदिन के हिसाब से बढ़ते हुए 300 करोड़ क्लब में एंट्री करने वाली है।

दिलजीत दोसांझ की पिछली फिल्म वेलकम टू न्यूयॉर्क ने बॉक्स ऑफ़िस पर दो करोड़ 38 लाख का कारोबार किया था जबकि अनुष्का शर्मा के साथ आई फिल्लौरी ने 27 करोड़ 10 लाख रूपये का बिज़नेस किया था।

कौन हैं संदीप सिंह

साल 1986 में हरियाणा के कुरुक्षेत्र में पैदा हुए संदीप सिंह को भारतीय हॉकी के बेहतरीन ड्रैग फ्लिकर में से एक माना जाता रहा है। पेनाल्टी कार्नर को गोल में तब्दील करने में उन्हें महारथ हासिल था। साल 2004 में क्वालालम्पुर के सुल्तान अजलान शाह हॉकी टूर्नामेंट से अपना इंटरनेशनल करियर शुरू करने वाले भारतीय टीम के इस फुल बैक ने कई मौकों पर भारत को जीत दिलाई। साल 2006 में शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन में गोली लगने के बाद वो अपाहिज हो गए थे और व्हीलचेयर पर चलना पड़ता था लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और फिर से हॉकी के मैदान में अपना वही जोश दिखाया। संदीप सिंह ने साल 2004 में एशिया कप में भारतीय टीम के चैम्पियन बनने में सबसे बड़ी भूमिका निभाई थी।

यह भी पढ़ें: Box Office पर सूरमा रिलीज़, पहले दिन इतनी कमाई की उम्मीद

By Manoj Khadilkar



Source link

, , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

%d bloggers like this: