Home » Special » डियर जिंदगी : ‘दुखी’ रहने का निर्णय!

डियर जिंदगी : ‘दुखी’ रहने का निर्णय!



एक बार दुखी रहने का निर्णय लेते ही हम ‘निर्दोष’ दुखी होते जाते हैं. यानी बिना किसी के ‘दोष’ के. रोजमर्रा की छोटी-छोटी बातों, चीजों में हम दुख तलाशने निकल जाते हैं.



Source link

, , , , , , , ,

Leave a Reply

%d bloggers like this: