Home » Science » आखिर क्या है सूर्य का रहस्य, जानने के लिए NASA ने शुरू की ये पहल

आखिर क्या है सूर्य का रहस्य, जानने के लिए NASA ने शुरू की ये पहल


ताम्पा (अमेरिका): सूर्य के प्रचंड तापमान वाले वातावरण को टटोलने और इस तारे तक मानवों के पहले मिशन के उद्देश्य से डेढ अरब डॉलर के नासा के अंतरिक्षयान के प्रक्षेपण की आज उल्टी गिनती शुरू हुई. कार के आकार का अंतरिक्षयान ‘पारकर सोलर प्रोब’ कल तड़के फ्लोरिडा के केप केनवरल से डेल्टा 4 हैवी राकेट के साथ प्रक्षेपित किया जाना है. नासा ने कहा कि प्रक्षेपण स्थानीय समयानुसार सुबह तीन बजकर 33 मिनट पर शुरू होगा और मौसम पूर्वानुमान 70 प्रतिशत प्रक्षेपण के पक्ष में है. इस यान का मुख्य लक्ष्य सूर्य की सतह के आसपास के असामान्य वातावरण के गूढ रहस्यों का पता लगाना है. सूर्य की सतह के ऊपर का क्षेत्र (कोरोना) का तापमान सूर्य की सतह के तापमान से करीब 300 गुना ज्यादा है

मिशीगन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर और परियोजना वैज्ञानिकों में शामिल जस्टिन कास्पर ने कहा, ‘‘पारकर सोलर प्रोब हमें इस बारे में पूर्वानुमान लगाने में बेहतर मदद करेगा कि सौर हवाओं में विचलन कब पृथ्वी को प्रभावित कर सकता है.’’ इस यान को केवल साढे चार इंच (11.43 सेंटीमीटर)मोटी ऊष्मा रोधी शील्ड से सुरक्षित किया गया है जो इसे सूर्य के तापमान से बचाएगी. 

NASA के मिशन में भारतीय मूल की सुनीता विलियम्स को मिली यह बड़ी जिम्मेदारी
नासा ने भारतीय मूल की अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स सहित ऐसे नौ लोगों का नाम नामित किया है जो व्यावसायिक रूप से उपलब्ध रॉकेट एवं कैप्सूल के जरिये अंतरिक्ष जाने के पहले मिशन के लिये उड़ान भरेंगे. अभियान अगले साल शुरू होगा. नेशनल एस्ट्रोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) ने कई वर्ष पहले इस यान के विकास एवं निर्माण का विचार किया था और अब वह वाणिज्यिक अंतरिक्ष यान के जरिये अंतरिक्षयात्रियों को भेजने जा रहा है. अंतरिक्ष एजेंसी ने कल घोषणा की कि पहले प्रायोगिक यान पर नौ अंतरिक्षयात्रियों को भेजा जायेगा.

नये अंतरिक्षयान का निर्माण एवं इसका संचालन बोइंग कंपनी और स्पेसएक्स ने किया है. नासा ने ट्वीट किया, ‘‘भविष्य के कमर्शियल क्रू के अंतरिक्षयात्री स्पेस एक्स एंड बोइंगस्पेस के सहयोग से निर्मित यान के जरिये अंतरिक्ष की यात्रा पर निकलेंगे. ’’ नासा के प्रशासक जिम ब्राइडन्सटाइन ने ‘लांच अमेरिका’ घोषणा के दौरान कहा, ‘‘हमलोग अमेरिकी अंतरिक्षयात्रियों को अमेरिकी सरजमीं से अमेरिकी रॉकेट से भेजने के कगार पर हैं. ’’ नासा के आठ सक्रिय अंतरिक्षयात्री और एक पूर्व अंतरिक्षयात्री एवं वाणिज्यिक चालक दल के सदस्य को वर्ष 2019 की शुरुआत में बोइंग सीएसटी-100 स्टारलाइनर एवं स्पेसएक्स ड्रैगनकैप्सूल्स से अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन भेजा जायेगा.

ब्राइडन्सटाइन ने कहा, ‘‘आज अंतरिक्ष के क्षेत्र में महान उपलब्धि हासिल करने के हमारे देश का सपना हमारी मुट्ठी में है.  अंतरिक्ष के महारथी इन अमेरिकी अंतरिक्षयात्रियों का यह समूह हमारे वाणिज्यिक सहयोगी बोइंग एवं स्पेसएक्स द्वारा निर्मित नये अंतरिक्षयान पर उड़ान भरेगा, जो मानव अंतरिक्षयान के युग में नयी शुरुआत होगी. ’’

उन्होंने कहा कि यह घोषणा ‘‘हमारे महान अमेरिकी दृष्टिकोण’’ को आगे बढ़ाती है और अंतरिक्ष के क्षेत्र में अमेरिकी नेतृत्व को मजबूती प्रदान करती है. इन नौ अंतरिक्षयात्रियों में सुनीता विलियम्स (52), जोस कसाडा (45) नासा के पहले अनुबंधित स्टारलाइनर अभियान के लिये उड़ान भरेंगी.  कसाडा की यह पहली अंतरिक्ष की उड़ान होगी, जबकि विलियम्स इससे पहले अंतरिक्ष स्टेशन में 321 दिन बीता चुकी हैं.

नासा के अंतरिक्षयात्री रॉबर्ट बेहंकेन (48) और डगलस हर्ले (51) स्पेसएक्स के पहले ड्रैगन क्रू के तौर पर एकसाथ उड़ान भरेंगे. नासा के अंतरिक्षयात्री एरिक बोए (53) और निकोल मैन (41) इसी यान के शटल अभियान के कमांडर के रूप में जायेंगे.  पूर्व अंतरिक्षयात्री एवं बोइंग के कार्यकारी क्रिस्टोफर फर्ग्युसन (56) स्टारलाइनर प्रायोगिक यान के सदस्य होंगे. 

इसे फ्लोरिडा में केप केनावेरल वायुसेना अड्डे में कॉम्प्लेक्स 41 से यूनाइटेड लांच अलायंस एटलस वी रॉकेट के जरिये भेजा जायेगा. इसके अलावा विक्टर ग्लोवर (42) और माइकल होपकिंस (49) स्पेसएक्स के ड्रैगन के पहले संचालन अभियान पर उड़ान भरेंगे. 

इनपुट भाषा से भी 

 



Source link

, , , ,

Leave a Reply

%d bloggers like this: