Home » World » vertical gardens developed in more than thousand pillers in mexico city

vertical gardens developed in more than thousand pillers in mexico city


  • मैक्सिको में प्रदूषण घटाने के लिए एक आर्किटेक्ट ने प्लान बनाया
  • मकसद था कि 25 हजार लोगों के लिए ज्यादा ऑक्सीजन हो, 27 हजार टन जहरीली गैस को फिल्टर किया जा सके

Dainik Bhaskar

Nov 02, 2018, 07:46 AM IST मैक्सिको सिटी. मैक्सिको की राजधानी को प्रदूषणरहित बनाने की कवायद की जा रही है। इस प्रोजेक्ट का नाम वाया वर्दे रखा गया है, जिसके तहत फ्लाईओवर्स के पिलर्स पर वर्टिकल गार्डन बनाए गए हैं। इन गार्डन का मकसद है कि आबादी के लिए ज्यादा से ज्यादा ऑक्सीजन पैदा की जाए, जिससे शहर की आबोहवा तरोताजा रहे।

 

इस प्रोजेक्ट का मकसद मैक्सिको सिटी को ग्रे (धूसर) से ग्रीन बनाना है। पिछले कुछ सालों में मैक्सिको सिटी में ट्रैफिक और स्मॉग (धुंध) में इजाफा हुआ है। एनजीओ लीगा पेटोनल के पब्लिक हेल्थ कोऑर्डिनेटर सर्जियो अंद्रादे ओचोआ के मुताबिक, मैक्सिको शहर में कारों की तादाद बढ़ने से प्रदूषण भी बढ़ गया है। हम पेड़ लगाना चाहते हैं, लेकिन सरकार ने कारों के लिहाज से खाली जगह काफी कम छोड़ी।

 

आर्किटेक्ट ने दिया अनोखा आइडिया 

वाया वर्दे प्रोजेक्ट का आइडिया एक आर्किटेक्ट फर्नान्डो ओर्टिज मोनासतेरियो ने दिया। उनकी फर्म वर्दे वर्टिकल ने लोगों का समर्थन हासिल करने के लिए ऑनलाइन चेंजडॉटऑर्ग पिटिशन भी चलाई। इस पिटिशन में दावा किया गया कि उनके प्लान पर अमल हुआ तो मैक्सिको सिटी में कुल आबादी से अतिरिक्त 25 हजार लोगों के लिए ऑक्सीजन पैदा हो सकेगी। वहीं, हर साल 27 हजार टन जहरीली गैसों, 5 हजार किलो धूल से निजात मिलेगी। साथ ही, धुएं में मिले 10 हजार किलो हेवी मेटल को भी प्रोसेस किया जा सकेगा। मोनासतेरियो के एक एक्टर दोस्त लुई गेरार्डो मेंडेज ने भी इस प्रोजेक्ट का प्रचार किया और सरकार का ध्यान केंद्रित करने के लिए 80 हजार लोगों के दस्तखत करा लिए।

Mexico

 

प्राइवेट फंडिंग से जुटाया गया पैसा

प्रोजेक्ट के लिए वर्दे वर्टिकल ने एक सर्वे किया। इसमें टैक्स, लोगों द्वारा दिए गए दान, कॉरपोरेशंस द्वारा की जाने वाली प्राइवेट फंडिंग से प्रोजेक्ट के लिए बजट जुटाने का तरीका पूछा। सबसे ज्यादा वोट (47%) प्राइवेट फंडिंग को मिले। इसके बाद कॉरपोरेशन फंडिंग से आर्किटेक्ट को 300 मिलियन पेसो (करीब 114 करोड़ रुपए) मिले। दो साल पहले एक हजार पिलर पर वर्टिकल गार्डन बनाने का काम शुरू कर दिया गया।

 

आर्किटेक्ट खुश, एनजीओ नाराज

पिलर पर वर्टिकल गार्डन बनाने से आर्किटेक्ट मोनासतेरियो खुश हैं। उनका कहना है कि मैं एक पूंजीवादी पर्यावरणविद हूं। हमने अपने काम को ठीक से अंजाम दिया। वहीं, लीगा पेटोनल एनजीओ ने प्रोजेक्ट को फेल बताया। एनजीओ के जुआन मैनुएल बर्डेजा और सर्जियो अंद्रादे ओचोआ ने कहा कि एयर क्वॉलिटी सुधारना और जलवायु परिवर्तन रोकना दोनों अलग-अलग बातें हैं। प्रोजेक्ट के जरिए सरकार का पाखंड सामने आया है। शहर के अंदर गार्डन बनाने के लिए 3 हजार से ज्यादा पेड़ काट दिए गए।

 

प्रोजेक्ट के दावे पर विवाद

पेड़ों के जरिए जलवायु परिवर्तन रोकना एक जटिल प्रक्रिया है। पेड़ों से वायु प्रदूषण कम या खत्म करने की प्रक्रिया को फाइटोरेमेडिएशन कहा जाता है। इस प्रोसेस में कार्बन, ऑक्सीजन में बदलता है। पौधों की कुछ प्रजातियों में ये क्वॉलिटी होती है। लीगा पेटोनल एनजीओ का दावा है कि वाया वर्दे प्रोजेक्ट में जिन पौधों का जिक्र किया गया, उनका रखरखाव आसान है। वे जहरीली हवा सोखने में सक्षम नहीं हैं। हालांकि, प्रोजेक्ट से जुड़े एक अफसर का कहना है कि ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन रोकना हमारा मकसद ही नहीं है।



Source link

Leave a Reply

%d bloggers like this: