Home » World » Trump suggests military could fire at caravan if people throw stones | तीन देशों से अमेरिका आ रहे 10 हजार लोग, ट्रम्प ने सेना से कहा

Trump suggests military could fire at caravan if people throw stones | तीन देशों से अमेरिका आ रहे 10 हजार लोग, ट्रम्प ने सेना से कहा


  • लोगों को रोकने के लिए 15 हजार जवान तैनात कर रहा अमेरिका 
  • शरण पाने के लिए होंडुरास, अल सल्वाडोर और ग्वाटेमाला के हजारों लोग अमेरिका की तरफ बढ़ रहे 
  • अभी 5800 जवान अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर तैनात, इन्हें मदद दे रहे वायुसेना के 400 जवान 

Dainik Bhaskar

Nov 02, 2018, 09:29 AM IST

वॉशिंगटन. रोजगार और अच्छे जीवन की तलाश में लैटिन अमेरिकी देशों होंडुरास, ग्वाटेमाला और अल सल्वाडोर से करीब 10 हजार लोगों का कारवां अमेरिका की ओर बढ़ रहा है। इन्हें रोकने को लिए अमेरिका-मैक्सिको बॉर्डर पर 15 हजार सैनिक तैनात किए जाएंगे। इस बीच डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि अगर भीड़ पथराव करती है तो सेना को उन पर गोली चलाने में जरा भी हिचकना नहीं चाहिए। 

खुलेआम गोलीबारी नहीं करेंगे

  1. ट्रम्प ने कहा कि अमेरिकी सेना अवैध रूप से आ रहे अप्रवासियों पर गोलीबारी नहीं करेगी। वह एक देश की जिम्मेदार सेना है। लेकिन लोगों ने सेना पर पत्थर बरसाए, जैसा उन्होंने मैक्सिको में किया था तो इसका जवाब गोलियों से दिया जाएगा। पत्थर और गोलियां चलाने में ज्यादा फर्क नहीं है।

  2. ट्रम्प के मुताबिक- ये अप्रवासी हिंसक तरीके से पथराव करते हैं। तीन दिन पहले भी उन्होंने ऐसा ही किया था। इसके चलते कई सैनिक घायल हो गए थे। अगर वे पथराव करेंगे तो मिलिट्री इसका जवाब देगी।


    US

  3. ट्रम्प ने यह सवाल भी उठाया कि आखिर कोई देश (मैक्सिको) इन अप्रवासियों को रोक क्यों नहीं पा रहा? जबकि कारवां के रवाना होने से पहले ही उसे रोक देना चाहिए।


  4. सीमा पर 15 हजार जवान तैनात रहेंगे

    अमेरिकी सीमा पर 10 हजार लोगों के कारवां को रोकने के लिए 15 हजार जवान मौजूद रहेंगे। ट्रम्प ने इससे पहले 5,200 जवानों की तैनाती की बात कही थी, ताकि वहां कानूनी प्रक्रियाओं में मदद की जा सके।

  5. अभी मैक्सिको सीमा पर नेशनल गार्ड के 2,100 जवानों समेत करीब 5,800 सैनिक तैनात हैं। इस मिशन को ‘ऑपरेशन भरोसेमंद देशभक्त’ का नाम दिया गया है।


  6. 20 दिन पहले चला था कारवां

    कारवां 20 दिन पहले होंडुरास के सैन पैड्रो शहर से शुरू हुआ था। वहां के 160 लोग गरीबी, और बेरोजगारी से तंग आकर अमेरिका की तरफ बढ़े। देखते ही देखते 7000 लोग शामिल हो गए। इसमें 1000 महिलाएं-बच्चे हैं। मैक्सिको में शरण के लिए 300 अर्जियां रोज आ रही हैं।





Source link

Leave a Reply

%d bloggers like this: