Home » Sports » Three Generations Of Double Centurions Shehzar Mohammad Continues Hanif Mohammad Family Cricket Legacy | तीन पीढ़ियों के नाम दर्ज हुई डबल सेंचुरी, क्रिकेट इस परिवार के खून में बसता है…

Three Generations Of Double Centurions Shehzar Mohammad Continues Hanif Mohammad Family Cricket Legacy | तीन पीढ़ियों के नाम दर्ज हुई डबल सेंचुरी, क्रिकेट इस परिवार के खून में बसता है…


तीन पीढ़ियों के नाम दर्ज हुई डबल सेंचुरी, क्रिकेट इस परिवार के खून में बसता है...

खेल के मैदान अक्सर हमें ऐसे परिवार देखने को मिल जाते हैं जिसमें पिता और पुत्र दोनों एक ही खेल के खिलाड़ी होते हैं. लेकिन पाकिस्तान में एक परिवार ऐसा है जसके तीन पीढ़िया क्रिकेट से जुड़ी रही है और जो बात इस परिवार को खास बनाती है वह है डबल सेंचुरी . पाकिस्तान के इस परिवार की तीनों पीढ़ियो के नाम फर्स्ट क्लास क्रिकेट में एक डबल सेंचुरी दर्ज है जो अपने आप में एक बेहद अनौखा रिकॉर्ड है.

पाकिस्तानी क्रिकेट मे यह परिवार किसी पहचान का मोहताज नहीं क्योंकि इस खानदान में डबल सेंचुरी लगाने का सिलसिला शुरू किया था पाकिस्तान के महान बल्लेबाज हनीफ मोहम्द ने. हनीफ मोहमम्द के नाम तो पाकिस्तान में  फर्स्टक्लास क्रिकेट का सबसे बड़े स्कोर यानी 499 रन बनाने का रिकॉर्ड भी दर्ज है.

COURTSEY : ICC

COURTSEY : ICC

शुक्रवार को पाकिस्तान की घरेलू ट्रॉफी यानी कायदे आजम ट्रॉफी में शहजर मोहम्मद ने अपनी टीम कराची की ओर से खेलते हुए मुल्तान की टीम के खिलाफ 265 रन बनाए.  26 साल के शहजर मोहम्मद हनीफ मोहम्मद के ही पोते हैं. शहजर के पिता यानी हनीफ मोहम्मद के बेटे शोएब मोहम्मद ने पाकिस्तान के लिए 45 टेस्ट और 63 वनडे मुकाबले खेले थे. उनके नाम भी फर्स्ट क्लास क्रिकेट में एक डबल सेंचुरी यानी नबाद 208 रन दर्ज हैं.

 

 

 

यही नहीं, हनीफ मोहम्मद के भाई सादिक और मुश्ताक के नाम भी फर्स्टक्लास डबल सेंचुरी दर्ज हैं और तो और सादिक के बेटे इमरान भी फर्स्ट क्लास क्रिकेट में डबल सेंचुरी जड़ चुके हैं.

शहजर के इस दोहरे शतक से खुश होकर पाकिस्तान के जियो टीम से बात करते हुए उनके पिता शोएब का कहना था उनकी इस पारी से पता चलते है कि क्रिकेट हमारे खून में है. अगर हनीफ साहब जिंदा होते तो बहुत खुश होते.



Source link

, , , , , , ,

Leave a Reply

%d bloggers like this: