Home » India » Delhi Pollution Delhis Air Quality Continues To Be Hazardous Even After Two Days Of Diwali Trucks Entry Ban In Delhi Till 11th November Ss | #DelhiDoesn’tCare: दिवाली के दूसरे दिन भी दिल्ली में सांस लेना खतरनाक, ट्रकों की एंट्री पर लगी रोक

Delhi Pollution Delhis Air Quality Continues To Be Hazardous Even After Two Days Of Diwali Trucks Entry Ban In Delhi Till 11th November Ss | #DelhiDoesn’tCare: दिवाली के दूसरे दिन भी दिल्ली में सांस लेना खतरनाक, ट्रकों की एंट्री पर लगी रोक


#DelhiDoesn'tCare: दिवाली के दूसरे दिन भी दिल्ली में सांस लेना खतरनाक, ट्रकों की एंट्री पर लगी रोक

दिवाली के दूसरे बाद भी दिल्ली की हवा में मामूली सुधार देखने को मिला है. लेकिन प्रदूषण का स्तर अभी भी ‘खतरनाक’ स्तर पर ही है. शुक्रवार को भी दिल्ली स्मॉग की चादर में लिपटी हुई नजर आई. आज सुबह करीब 7 बजे आनंद विहार इलाके में पीएम 10 का लेवल 585 रहा, वहीं पीएम 10 का लेवल यूएस एम्बेसी के आसपास के इलाके में 567 और आरके पुरम में 343 मापा गया. जोकि एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) पर ‘खतरनाक’ श्रेणी में आता है.

ट्रकों के प्रवेश पर लगी रोक

दिवाली के बाद बढ़े प्रदूषण के स्तर पर कुछ काबू पाने के लिए दिल्ली में तीन दिनों के लिए ट्रकों के प्रवेश पर रोक लगा दी है. दिल्ली में गुरुवार रात 11 बजे से तीन दिनों तक माल ढुलाई करने वाले भारी एवं मध्यम श्रेणी के वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा. दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग ने प्रतिबंध के सिलसिले में एक अधिसूचना जारी की है. इसने निजी डीजल वाहन मालिकों से इस अवधि के दौरान वाहनों का इस्तेमाल करने से बचने की अपील की है.

परिवहन विभाग के विशेष आयुक्त के. के. दहिया ने कहा कि अधिसूचना के मुताबिक दिल्ली में माल ढुलाई के भारी एवं मध्यम श्रेणी के वाहनों का प्रवेश आठ नवंबर रात 11 बजे से 11 नवंबर रात 11 बजे तक प्रतिबंधित रहेगा.

दिवाली के अगले दिन तो और भी जानलेवा था घर से बाहर निकलना

इससे पहले दिवाली के अगले दिन की सुबह आनंद विहार में एयर क्वालिटी इंडेक्स 999 दर्ज किया गया था, जो कि ‘बेहद खराब’ की श्रेणी में आता है. वहीं यूएस एम्बेसी के आसपास के इलाके और चाणक्यपुरी में AQI 459 और मेजर ध्यान चंद स्टेडियम के आसपास के इलाके में भी AQI 999 था. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, दिल्ली यूनिवर्सिटी के नॉर्थ कैंपस में पीएम 2.5 का लेवल 2000 तक पहुंच गया था.

डॉक्टरों का कहना है कि लोगों की सेहत पर इस वायु प्रदूषण के असर की तुलना एक दिन में 15-20 सिगरेट पीने से होने वाले नुकसान से की जा सकती है. केंद्र द्वारा संचालित सिस्टम फॉर एयर क्वालिटी फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) की ओर से जारी चेतावनी के मुताबिक, दीवाली के बाद राष्ट्रीय राजधानी में हवा की गुणवत्ता ‘अत्यंत गंभीर और आपातकालीन’ स्तर तक पहुंच सकती है.



Source link

, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

%d bloggers like this: