Home » India » प्रधानमंत्री बनने से पहले 2013 में मोदी ने देखा था जो सपना… आखिरकार 5 साल बाद जाकर हुआ वो पूरा; मोदी के इस सपने पर आज देश को होगा गर्व

प्रधानमंत्री बनने से पहले 2013 में मोदी ने देखा था जो सपना… आखिरकार 5 साल बाद जाकर हुआ वो पूरा; मोदी के इस सपने पर आज देश को होगा गर्व






ट्रैवल डेस्क। गुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' तैयार हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (31 अक्टूबर) इसका उद्घाटन करेंगे। ये दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति है। मूर्ति का निर्माण दिसंबर 2013 में शुरू हुआ था। बता दें कि आज सरदार पटेल की 143वीं बर्थ एनिवर्सरी भी है। वे आयरनमैन के नाम से मशहूर थे। ऐसे में हम इस मूर्ति से जुड़े रोचक फैक्ट्स बता रहे हैं।

  1. इस मूर्ति की ऊंचाई 182 मीटर (600 फीट) है। न्यूयॉर्क स्थित 'स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी' से इस मूर्ति का आकार दोगुना है।

  2. इस स्टैच्यू का निर्माण गुजरात की राजधानी अहमदाबाद से करीब 200 किलोमीटर (125 माइल्स) पर किया गया है। वहीं, वडोदरा से 2.5 किलोमीटर दूर साधुबेत नामक जगह पर नर्मदा बांध पर स्थित है।

  3. इस मूर्ति के निर्माण में लगभग 2500 मजदूर और इंजीनियर काम में लगे हैं। इसमें काफी चीनी मजदूर और एक्सपर्ट भी हैं। इसे बनाने के लिए देशभर के 6 लाख गांवों से करीब 5000 मीट्रिक टन लोहा इकट्ठा किया गया है।

  4. इस स्टैच्यू की एक गैलेरी 153 मीटर की ऊंचाई पर होगी। जिसे देखने के लिए एक साथ 200 विजिटर्स शामिल हो पाएंगे। इस ऊंचाई से डेम का खूबसूरत नजारा भी दिखाई देगा।

  5. इस मूर्ति की खास बात है कि 60 मीटर प्रति सेकंड की रफ्तार से चलने वाली हवा से भी इसे नहीं होगा। ये वाइब्रेशन और भूकंपरोधी है।

  6. इसमें 75 हजार क्यूबिक कंक्रीट, 18500 टन स्टील की छड़ें, 22500 टन कांस्य शीट्स और 22500 मीट्रिक टन सीमेंट का इस्तेमाल किया गया है।

  7. 31 अक्टूबर, 2013 में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री और मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालकृष्ण आडवाणी की मौजूदगी में इसकी आधारशिला रखी थी। 31 अक्टूबर, 2014 से इस पर काम शुरू हुआ। इसके निर्माण से पहले शुरुआत में 15 महीने प्लानिंग की गई थी।

  8. मूर्ति का काम पूरा होने के बाद ट्राइबल लोगों के लिए हर साल 15 हजार नौकरियां आएंगी।

  9. सरदार वल्लभ भाई पटेल की जिंदगी के बारे में बताने के लिए एक यूनिक म्यूजियम के साथ ऑडियो-विजुअल डिपार्टमेंट भी बनाया जाएगा।

  10. इस मूर्ति के पास पहुंचने के लिए स्पेशल वोट्स का इस्तेमाल किया जाएगा। यानी यहां पर व्हीकल्स का ट्रैफिक और पॉल्यूशन भी नहीं होगा।

  11. 27 अक्टूबर, 2014 में लार्सन एंड टुब्रो ने 2989 करोड़ में इसकी बोली लगाते हुए इस प्रोजेक्ट को बनाने का अधिकार हासिल किया था। इस कंपनी ने डिजाइन, कंस्ट्रक्शन और मेंटेनस की पेशकश की थी।

  12. वर्तमान में दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति बुद्ध की है। जो चीन के वसंत मंदिर में है। इसकी ऊंचाई 128 मीटर (420 फीट) है।

 <br /><br />
        <a href="https://f87kg.app.goo.gl/V27t">Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today</a>
    <section class="type:slideshow">
                    <figure>
            <a href="https://www.bhaskar.com/national-news/news/world-tallest-statue-sardar-vallabhbhai-patel-unveiled-in-india-5976295.html">
                <img border="0" hspace="10" align="left" style="margin-top:3px;margin-right:5px" src="https://i10.dainikbhaskar.com/thumbnails/891x770/web2images/www.bhaskar.com/2018/10/30/world_tallest_statue_2_15.jpg" />
            <figcaption>World Tallest Statue Sardar Vallabhbhai Patel, Twice Size Of 'Statue Of Liberty', Unveiled In India</figcaption>
            </a> 
        </figure>
                </section>



Source link

, , , , , , , , ,

Leave a Reply

%d bloggers like this: