Home » TECH » नए सिम कार्ड के लिए आधार जरूरी नहीं; आईडी और एड्रेस प्रूफ से ही मिलेगा नया कनेक्शन, लाइव फोटो से होगा वेरिफिकेशन

नए सिम कार्ड के लिए आधार जरूरी नहीं; आईडी और एड्रेस प्रूफ से ही मिलेगा नया कनेक्शन, लाइव फोटो से होगा वेरिफिकेशन





गैजेट डेस्क. सुप्रीम कोर्ट के सितंबर में सिम कार्ड रजिस्ट्रेशन के लिए आधार की अनिवार्यता को खत्म करने का फैसला दिया था, जिसके बाद सरकार ने टेलीकॉम कंपनियों को मौजूदा ग्राहक और नए ग्राहक को कनेक्शन देने के लिए आधार ई-केवाईसी वेरिफिकेशन बंद करने के आदेश दिए थे। इसके लिए टेलीकॉम डिपार्टमेंट (डीओटी) ने टेलीकॉम कंपनियों के लिए नई गाइडलाइन जारी कर दी है, जिसके तहत मौजूदा ग्राहकों को नई सिम देने के लिए कंपनियां आधार ई-केवाईसी का इस्तेमाल नहीं कर सकतीं।

  1. नए सिम कार्ड के रजिस्ट्रेशन जरूरी नहीं है। मतलब किसी भी आईडी प्रूफ और एड्रेस प्रूफ के जरिए ही सिम कार्ड का रजिस्ट्रेशन किया जाएगा।

  2. टेलीकॉम कंपनियां अब कस्टमर एक्यूजिशन फॉर्म (सीएएफ) के जरिए वेरिफिकेशन करेंगी। इसमें ग्राहक की लाइव फोटो और एड्रेस प्रूफ की स्कैन इमेज लगानी होगी।

  3. लाइव फोटो में सीएएफ नंबर, जीपीएस कॉर्डिनेट, रिटेल आउटलेट का नाम और यूनिक कोड वॉटरमार्क करना होगा। साथ ही फोटो पर समय और तारीख भी स्टांप करनी होगी।

  4. सिर्फ फोटोग्राफ ही नहीं, बल्कि सभी तरह के आइडेंटिटी प्रूफ पर भी टेलीकॉम ऑपरेटर को वॉटरमार्क करना होगा।

  5. सीएएफ फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारी को भरना जरूरी होगा। ऐसे आईडी प्रूफ जिनमें क्यूआर कोड रहता है, उसे भी स्कैन कर सकते हैं। जैसे- अगर कोई ग्राहक अपना आधार कार्ड देता है, तो उसे स्कैन कर उसका नाम, लिंग, जन्मतिथि को लिया जा सकता है। क्यूआर कोड स्कैनिंग के जरिए फॉर्म में ये जानकारी अपने आप ऑटो-पॉपुलेटेड हो जाएंगी।

  6. इसके अलावा अब नए सिम कार्ड के रजिस्ट्रेशन के लिए ग्राहक के पास दूसरा सिम कार्ड होना भी जरूरी है, क्योंकि इसी आधार पर नई सिम दी जाएगी। दूसरी सिम पर ही ओटीपी नंबर आएगा जिससे ग्राहक का वेरिफिकेशन किया जाएगा। अगर ग्राहक के पास पहले से कोई सिम नहीं है तो उसे अपने किसी परिजन का मोबाइल नंबर देना होगा, जिस पर ओटीपी आएगा। इसी ओटीपी को ग्राहक के सिग्नेचर के तौर पर माना जाएगा।

  7. सिम कार्ड रजिस्ट्रेशन के लिए ग्राहक के दिए गए आईडी प्रूफ और एड्रेस प्रूफ का वेरिफिकेशन करना टेलीकॉम कंपनियों की जिम्मेदारी होगी। ग्राहक का वेरिफिकेशन होने के बाद ही सिम कार्ड एक्टिवेट होगा।

  8. टेलीकॉम डिपार्टमेंट की तरफ से जारी नई गाइडलाइंस के तहत टेलीकॉम कंपनियां डिजिटल केवाईसी प्रोसेस का उपयोग कर ग्राहक को हर दिन उनके आईडी प्रूफ और एड्रेस प्रूफ के जरिए सिर्फ दो सिम कार्ड ही दे सकेंगी। इसके अलावा ग्राहक के दूसरे नंबर पर मिले ओटीपी के जरिए ही टेली-वेरिफिकेशन किया जाएगा।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      telecom department issue alternate guidelines for e kyc



      Source link

      , , , , ,

Leave a Reply

%d bloggers like this: