Home » Business » दिवाली बोनस की पूरी रकम खर्च ना करें, कुछ हिस्सा निवेश भी करे

दिवाली बोनस की पूरी रकम खर्च ना करें, कुछ हिस्सा निवेश भी करे






त्योहारों के दौरान बैंक खाते में बोनस की रकम आना निश्चित ही खुशी की बात है। लेकिन इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि पूरा पैसा खर्च न करके कुछ हिस्सा सुरक्षित रखना चाहिए। बोनस की रकम के सही इस्तेमाल के कुछ टिप्स बता रहे हैं, पर्सनल वेल्थ एडवाइजरी, एड्लवाइज के हेड राहुल जैन।

एसआईपी में निवेश बढ़ाएं
अगर आप म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं और आपके पास एसआईपी है तो बोनस की रकम से आप इनमें निवेश बढ़ा सकते हैं। जैसे-जैसे आपकी इनकम बढ़ती है, आपको निवेश की रकम भी बढ़ानी चाहिए। इससे लंबे समय में आपको अपना लक्ष्य हासिल करना आसान हो जाएगा। अगर आपके ऊपर कोई कर्ज नहीं है तो दिवाली बोनस का अच्छे रिटर्न वाले इंस्ट्रूमेंट में निवेश करना ही सर्वोत्तम फैसला होता है।

पुराने कर्ज लौटाएं
अगर आप के ऊपर पुराना कर्ज है तो बोनस की रकम से उसे लौटाना हमेशा बेहतर होगा। इस रकम से आप क्रेडिट कार्ड के बिल, पर्सनल लोन, होम लोन का प्री-पेमेंट कर सकते हैं। समय पर कर्ज लौटाने से आपको ज्यादा ब्याज नहीं चुकाना पड़ेगा। साथ ही सिबिल में आपका स्कोर भी अच्छा रहेगा।

दिवाली की खरीदारी
आमतौर पर हम बोनस की रकम से अनावश्यक खरीदारी भी कर लेते हैं। हम जरूरत और जिम्मेदारियों का ख्याल ना रखते हुए त्योहारों का लुत्फ उठाने में मस्त रहते हैं। हमारा सुझाव है कि आपको अपनी जरूरतों को समझना चाहिए। कोई चीज सिर्फ इसलिए नहीं खरीद लेना चाहिए कि उस पर डिस्काउंट मिल रहा है। अपनी शॉपिंग लिस्ट बनाएं और तय करें कि सिर्फ वही चीजें खरीदेंगे जिनकी आपको सबसे ज्यादा जरूरत है।

टैक्स बचत के लिए निवेश
महीने-डेढ़ महीने में सभी कर्मचारियों को अपने नियोक्ता को टैक्स में बचत के सबूत देने पड़ेंगे। अंतिम क्षणों में निवेश के फैसले से आपकी बचत प्रभावित हो सकती है। अगर आप टैक्स में बचत वाली स्कीमों में निवेश नहीं करते हैं तो आपके वेतन से टैक्स ज्यादा कटेगा। इससे आपके घरेलू खर्च प्रभावित हो सकते हैं। इसलिए दिवाली बोनस से आप टैक्स में बचत वाले इंस्ट्रूमेंट में निवेश भी कर सकते हैं।

इमरजेंसी फंड बनाएं
खर्च करने से पहले आप यह सोचें कि क्या आपके पास इमरजेंसी फंड है? सामान्य नियम यह है कि आपके पास कम से कम 6 महीने के खर्च के लायक पैसे होने चाहिए। 6 महीने में कितनी रकम की जरूरत होगी, यह निकालना भी आसान है। सबसे पहले तो यह देखें कि हर महीने आपके जरूरी खर्च क्या हैं। हाउसिंग, खाने-पीने, ट्रांसपोर्टेशन और बच्चों की पढ़ाई पर सबसे ज्यादा खर्च होता है। इन सबको जोड़कर आप देख सकते हैं कि हर महीने आपको कितनी रकम की जरूरत पड़ेगी। अंत में एक बात। परिवार के साथ खुशियां मनाइए लेकिन ऐसे नहीं कि आपकी आर्थिक स्थिति डगमगाए। बल्कि इस तरह कि अगले साल भी आप उसी खुशी के साथ त्योहार मना सकें।

– ये लेखक के निजी विचार हैं। इनके आधार पर निवेश से नुकसान के लिए दैनिक भास्कर जिम्मेदार नहीं होगा।

 <br /><br />
        <a href="https://f87kg.app.goo.gl/V27t">Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today</a>
    <section class="type:slideshow">
                    <figure>
            <a href="https://www.bhaskar.com/business/news/column-on-personal-finance-by-rahul-jain-01224972.html">
                <img border="0" hspace="10" align="left" style="margin-top:3px;margin-right:5px" src="https://i10.dainikbhaskar.com/thumbnails/891x770/web2images/www.bhaskar.com/2018/11/06/0521_rahul_jain01.png" />
            <figcaption>राहुल जैन। -फाइल</figcaption>
            </a> 
        </figure>
                </section>



Source link

,

Leave a Reply

%d bloggers like this: